बकरा-राजा-Goat-King-Hindi-Kahani

बकरा राजा | Goat King


हिंदी कहानी – बकरा राजा | Hindi Kahani – Goat King


बकरा राजा - Goat King - Hindi Kahani

बकरा राजा – Goat King – Hindi Kahani

हिंदी कहानी – बकरा राजा

बकरा राजा : चित्रकूट जंगल का राजाशेरअपनी प्रजा का बहुत ख्याल रखता था। वह अपनी प्रजा से बहुत प्यार और उसके हर सुखदुख में शामिल होता था।

प्रजा भी ऐसा राजा पाकर बहुत खुश थी। जंगल का राजा शेर काफी दिनों से अपने आप को थकाथका सा महसूस कर रहा था। वह कुछ दिनों के लिए सब कामधाम छोड़कर आराम करना चाहता था।

परन्तु वह ऐसा नहीं कर पा रहा था। उसे अपनी प्रजा का ध्यान आ जाता था। वह मन ही मन सोचता कि उसके पीछे उसकी प्यारी प्रजा की देखभाल करने वाला कोई नहीं है।

हिंदी कहानी – मूर्ख नाई

तभी उसके मन में विचार आया। शेर ने जंगल में ऐलान करवा दिया कि जो कोई भी प्रजा, राजा शेर की शर्तों पर खड़ा उतरेगा उसे कुछ दिनों के लिए राजा का उत्तराधिकारी घोषित किया जायेगा और जंगल का राजा बना दिया जायेगा।

क्योंकि राजा शेर को आराम की सख्त जरुरत है, ऐसे में उसकी प्रजा की देखभाल के लिए एक राजा की आवश्यकता है, जो उसकी प्रजा का ध्यान भलीभांती कर सके।

चित्रकूट जंगल की प्रजा राजा बनने के लिए अपनाअपना भाग्य आजमाने शेर राजा के पास जाते। परन्तु कोई भी प्रजा राजा को संतुष्ट नहीं कर पाए। राजा बहुत चिंतित हो गया। वह सोचता कि यह राज – पाट किसके हाथों में सौंपकर आराम करने के लिए जाए।

हिंदी कहानी – चालाक मछली

यह बात जानकर की कोई भी प्रजा राजा की शर्तों पर खड़ा नहीं उतरा है, बकरा भी अपना भाग्य आजमाने राजा के पास गया।

बकरा राजा - Goat King - Hindi Kahani
बकरा राजा – Goat King – Hindi Kahani

 

शेर के पास जाकर बकरा ने अपना सिर झुकाकर प्रणाम किया और राजा को अपनी शर्त बताने को कहा।
शेर अविश्वास के साथ भारी भरकम शरीर वाले बकरा से पूछा
शेर ने  पहली शर्त रखी 
  • मेरे पीछे जंगल का ध्यान कौन रखेगा?
बकराने जवाब दिया में में हुज़ूर

शेर ने दूसरी शर्त रखी
  • जंगल में सभी जानवरों का सुखदुख का ख्याल कौन रखेगा?
बकराने जवाब दिया में में हुज़ूर

शेर ने तीसरी शर्त रखी
  • जंगल में होने वाली अच्छी और बुरी घटनाओं की जिम्मेदारी कौन लेगा?
बकराने जवाब दिया में में हुज़ूर
 
शेर बहुत खुश हो गया। आखिरकार शेर को अपना उत्तराधिकारी मिल गया था। शेर ने बकरा को राजा घोषित कर दिया और स्वयं कुछ दिनों के लिए आराम करने के लिए अपनी गुफा में चला गया।
इधर, बकरा भी राजा बनकर बहुत खुश हो गया और अपनेआप को सराहने लगा । बकरा खुद को जंगल का राजा पाकर घमंडी हो गया था। वह जंगल की प्रजा का जरासा भी ध्यान नही रखता था बल्कि सभी प्रजाओं को अपनी सेवा में हमेशा हाज़िर रहने के लिए कहता था। अगर ऐसा कोई प्रजा नही करता तो वह उसे दंड भी देता था।
बकरा राजा जंगल का भी ध्यान नही रखता था। वह प्रजा का दुःख भी नही सुनता था। पूरी प्रजा बकरा राजा को पाकर बहुत दुखी थी। चित्रकूट जंगल की प्रजा अब अपने राजा शेर का जल्दीसेजल्दी आने के लिए प्रार्थना करने लगे।
उधर, शेर आराम पाकर स्वयं को तरोताज़ा महसूस करने लगा। वह अपने जंगल जाने का विचार कर जंगल की तरफ मुड़ गया। जंगल जाकर शेर ने देखा कि उसकी प्रजा दु:खी है, जिधर जाता उधर अशांती और मायूसी छाई हुई थी।
शेर तुरंत बकरा राजा के पास गया और बोला तुमने राजा होने का उत्तरदायित्व पूरा नही किया है। तुमने अपने अधिकारों का सही उपयोग नही किया है। इसकी तुम्हें सजा मिलेगी।
बकरा शेर की बात सुनकर दृढ़ता से शेर को खरीखोटी सुना दी और इस राजा की सिंहासन को हमेशा के लिए भूल जाने के लिए कहा। शेर को बकरा के इस दुर्व्यवहार पर बहुत क्रोध आया, परन्तु शेर ने उसे दंडित न कर बल्कि सही समय आने का इंतजार कर वहाँ से चला गया।

बकरा राजा - Goat King - Hindi Kahani
बकरा राजा – Goat King – Hindi Kahani


दूसरी ओर जब भेड़ियों को जब इस बात का पता चला की जंगल का राजा बकरा बन बैठा है तो उसने तुरंत जंगल पर आक्रमण कर दिया। भेड़ियों के आक्रमण होने से जंगल की प्रजा भागते हुए बकरा राजाके पास आए अपने प्राणों की रक्षा के लिए।

हिंदी कहानी – मनोहर की सेहत

लेकिन बकरा राजाने मदद करने से साफ़ इंकार कर दिया और कहा अपने प्राणों की रक्षा खुद करो। बकरा स्वयं भी बहुत डरासहमा था।

इतने में भेड़िया बकरा के पास आ गया और जैसे ही उसे अपना शिकार बनाना चाहा वैसे ही तुरंत वहाँ शेर आ गया बकरा और अपनी प्रजा के रक्षा के लिए। शेर को देखकर सभी भेड़िया वहाँ से नौ-दो-ग्यारह हो गए।

 
अपने बीच शेर को पाकर चित्रकूट जंगल की प्रजा बहुत खुश हो गई। बकराअपने द्वारा किए गए शेर के साथ दुर्व्यवहार पर बहुत शर्मिंदा हुआ और इसके लिए माफ़ी भी माँगी। राजा शेर ने भी अपनी उदारता दिखाते हुए बकरा को माफ़ कर दिया।



शिक्षा :हमें अपनी सफलता का घमंड नहीं करना चाहिए और अपने कर्तव्यों का पूरी ईमानदारी से निर्वहन करना चाहिए। तभी हम अपनी सफलता को बरक़रार रख सकते हैं ।
 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

close
Scroll to Top