Vachan In Hindi | वचन: परिभाषा, भेद और उदाहरण

0
297

Vachan In Hindi: हेलो दोस्तों, इस लेख में हम वचन के बारे में पढ़ेंगे, वचन किसे कहते हैं? (Vachan Kise Kahate Hain?) वचन की परिभाषा, वचन के भेद कितने होते है। इसलिए इस लेख को अंत तक पढ़े।

Table of Contents

Vachan Kise Kahate Hain वचन किसे कहते हैं

वचन की परिभाषा: जिस शब्द से संज्ञा के एक या अनेक होने का बोध हो उसे वचन कहते हैं। अर्थात संज्ञा के जिस रुप से व्यक्ति, वस्तु, जानवर आदि के संख्या का पता चले उसे वचन कहते हैं।

जैसे-
एक तारा, अनेक तारे
एक लड़का, अनेक लड़के
एक लड़की, अनेक लड़कियाँ

उपयुक्त उदाहरण में तारा, लड़का और लड़की शब्दों से उनकी एक संख्या का बोध हो रहा है। तारे, लड़के, लड़कियाँ शब्दों से उनके एक से अधिक संख्या या अनेक होने का बोध हो रहा है।

Vachan In Hindi
Vachan In Hindi

हिंदी व्याकरण में वचन के दो भेद होते हैं

  1. एकवचन
  2. बहुवचन

एक वचन

शब्द के जिस रूप से वस्तु या प्राणी के एक संख्या होने का पता चलता है। उसे एक वचन कहते हैं।

जैसे-
पुस्तक, रोटी, लकड़ी, मिठाई।

बहुवचन

शब्द के जिस रुप से वस्तु या प्राणी के एक से अधिक संख्या होने का पता चलता है, तो उसे बहुवचन कहते हैं।

जैसे-
पुस्तकें, रोटियाँ, लड़कियाँ, मिठाइयाँ।

याद रखेंगे योग्य बातें

कुछ शब्द सदा एकवचन के रूप में प्रयोग किए जाते हैं।

जैसे-
पानी, जनता, सोना, भीड़ आदि।
पानी शीतल है।
जनता जागरूक है।
बाजार में भीड़ बहुत है।

कुछ शब्द सदा बहुवचन के रूप में प्रयोग किए जाते हैं।
जैसे-
आँसू, दर्शन, बाल, हस्ताक्षर।

उदाहरण के लिए
रामू के आँसू बह रहे हैं।
मंदिर में भगवान के दर्शन हो गए।
गीता के बाल काले हैं।

किसी को आदर प्रकट करने के लिए सदा बहुवचन का प्रयोग करते हैं।

जैसे-
नानाजी, आप यहाँ बैठिए।
शिक्षक पढ़ाने आएँ हैं।

कई बार वचन बदलने पर संज्ञा और क्रिया का रूप भी बदल जाता है।

जैसे-
लड़की पढ़ रही है। (एक वचन)
लड़कियाँ पढ़ रही हैं। (बहुवचन)

“प्रत्येक” शब्द सदैव एकवचन में रहते हैं।

जैसे-
प्रत्येक सजीव में प्राण होता है।

संज्ञा के वे शब्द जिसमें भाव या गुण का बोध होता है। उनका सदा एकवचन में प्रयोग होता है।

जैसे-
मिठास, सुंदरता, स्वाद आदि।
खीर में मिठास है।
सीता की सुंदरता मनमोहक है।
भोजन का स्वाद अच्छा है।

समुदाय वाचक शब्द संज्ञा के एकवचन शब्द के साथ जुड़कर बहुवचन में बदल जाते हैं।

जैसे-
गण, लोग, जन, मंडल, परिषद आदि शब्द समुदाय वाचक है। जो एक समुदाय का बोध कराते हैं।

उदाहरण के लिए
नेतागण सभा कर रहे हैं।
सज्जन लोग सामाजिक कार्य में लगे हैं।
आप लोग क्या कर रहे हैं?

वचन परिवर्तन के नियम

एकवचन से बहुवचन बनाते समय “ई” की मात्रा बदल कर “इ” हो जाती है, तथा उसमें “याँ” जोड़ते हैं।
जैसे-

एकवचन बहुवचन
मिठाई मिठाइयाँ
लड़की लड़कियाँ
रोटी रोटियाँ
दवाई दवाइयाँ
मक्खी मक्खियाँ

एकवचन से बहुवचन बनाते समय “ऊ” की मात्रा बदल कर “उ” हो जाती है तथा उसमें “एँ” जोड़ते हैं।
जैसे-

  • गऊ – गउएँ
  • बहू – बहुएँ

एकवचन से बहुवचन बनाते समय “आ” की मात्रा बदल कर “ए” हो जाती है। जैसे-

तारा तारे
बच्चा बच्चे
पपीता पपीते
लड़का लड़के
खिलौना खिलौने

परंतु निम्नलिखित कुछ शब्द को बहुवचन बनाते समय “आ” की मात्रा के साथ “एँ” को जोड़ते हैं।
जैसे-

अध्यापिकाअध्यापिकाएँ
कविताकविताएँ
बालाबालाएँ
कथाकथाएँ
बाधाबाधाएं

एकवचन से बहुवचन बनाते समय “अ” की मात्रा बदलकर “ऐं” हो जाती है।
जैसे-

दुकानदुकानें
पुस्तकपुस्तकें
आँखआँखें
बहनबहनें
औरतऔरतें

किसी शब्द के अंत में “या” शब्द आने पर एकवचन से बहुवचन बनाते समय “याँ” बदल कर यहां हो जाता है।
जैसे-

चुहियाचुहियाँ
गुड़ियागुड़ियाँ
चिड़ियाचिड़ियाँ
बुढ़ियाबुढियाँ

एकवचन से बहुवचन बनाते समय एकवचन शब्द में गण,जन,लोग, वर्ग,दल जोड़कर बहुवचन शब्द बनाते हैं।
जैसे-

अध्यापकअध्यापकगण
वृद्धवृद्धजन
गरीबगरीबजन
आपआपलोग
उच्चउच्चवर्ग
सेनासेनादल

ये भी पढ़ें-

हमें फेसबुक पर फॉलो करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here