सौरमंडल के ग्रह | Saurmandal Ke Grah

सौरमंडल के ग्रह (Saurmandal Ke Grah): हमारे सौरमंडल में कुल 8 ग्रह है। बुध (Mercury) शुक्र (Venus) पृथ्वी (Earth) मंगल (Mars) बृहस्पति (Jupiter) शनि (Saturn) अरुण (Uranus) वरुण (Neptune)

0
261

सौरमंडल के ग्रह (Saurmandal Ke Grah): हमारे सौरमंडल में कुल 8 ग्रह है।

  1. बुध (Mercury)
  2. शुक्र (Venus)
  3. पृथ्वी (Earth)
  4. मंगल (Mars)
  5. बृहस्पति (Jupiter)
  6. शनि (Saturn)
  7. अरुण (Uranus)
  8. वरुण (Neptune)

जब सौरमंडल का निर्माण हुआ था तब सौर परिवार में कुल नौ ग्रह थे। नौवां प्लूटो था। मगर समय के साथ-साथ प्लूटो का आकार छोटा होता गया। इसलिए खगोल वैज्ञानिकों ने प्लूटो को सौर परिवार के ग्रह से अलग कर दिया। वैज्ञानिकों ने प्लूटो का दूसरा नाम dwarf planet अर्थात बौना ग्रह रख दिया।

बुध, शुक्र, पृथ्वी, मंगल सौर परिवार के आंतरिक ग्रह है। यह ग्रह ठोस, उबड़ -खाबड़, धरातलीय सतह से बना है। बृहस्पति, शनि, अरुण और वरुण को वाह्य ग्रह में रखा गया है। यह ग्रह गैसीय है। इसमें अनेक गैसों का समावेश है। इसमें ज्यादातर हीलियम और हाइड्रोजन गैस होते हैं। इसे जोवियन ग्रह भी कहते हैं।

सौरमंडल मुख्य रूप से आठ ग्रह, बौना ग्रह, क्षुद्र पट्टी, उल्का पिंड, प्राकृतिक उपग्रह, खगोलीय धूल-कण, धूमकेतु के मिलने से बना है।

Saurmandal Ke Grah
सौरमंडल के ग्रह (Saurmandal Ke Grah)

सौरमंडल के ग्रह | Saurmandal Ke Grah

बुध ग्रह- बुध ग्रह सूर्य के सबसे नजदीक का ग्रह है। यह सौरमंडल का पहला ग्रह है। इस ग्रह को Mercury भी कहते हैं। यह सौरमंडल का सबसे छोटा ग्रह है। बुध सूर्य की परिक्रमा 88 दिन में पूरी करता है। यह सभी ग्रहों से सबसे कम दिन का समय लेता है, अर्थात यह सभी ग्रहों से सबसे तेज गति से घूमता है।

बुध ग्रह का अपना कोई प्राकृतिक उपग्रह नहीं है। इस ग्रह पर वायुमंडल नहीं होने से इस पर जीवन नहीं है। पृथ्वी की तुलना में यह 18 गुना छोटा है। बुध का एक कृत्रिम उपग्रह है जिसका नाम मेरीनर 10 है। पृथ्वी की तरह बुध का भी चुंबकीय क्षेत्र दो ध्रुवीय है। जिसके कारण यह पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र के समान है।

शुक्र ग्रह- शुक्र ग्रह सौरमंडल का दूसरा ग्रह है। इस ग्रह को Venus भी कहते हैं।शुक्र ग्रह का तापमान 500 डिग्री सेंटीग्रेड है। इस तापमान पर शीशा भी पिघल जाता है।शुक्र ग्रह सबसे चमकीला ग्रह हैं।सौरमंडल का यह सबसे गर्म ग्रह हैं।यह ग्रह सूर्य से आने वाली किरणों और ऊष्मा को अवशोषित कर लेता हैं। जिसकी वजह से यह सबसे गर्म ग्रह हैं। सूर्य की परिक्रमा करने में शुक्र ग्रह को 224.7 दिन का समय लगता है।

शुक्र ग्रह अन्य ग्रहों के अपेक्षा विपरीत दिशा में चक्कर लगाता है। यह पश्चिम से पूर्व दिशा में घूमता है। शुक्र ग्रह के वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्साइड तथा नाइट्रोजन विद्यमान है। आकार और बनावट में पृथ्वी से समानता होने कारण इसे पृथ्वी की बहन भी कहते हैं। यह पृथ्वी से नजदीक का ग्रह है। इस पर कोई चुंबकीय क्षेत्र नहीं है। शुक्र ग्रह को भोर का तारा तथा शाम का तारा के नाम से भी जाना जाता है। इस ग्रह का नाम प्रेम और सौंदर्य की देवी रोमन देवी पर रखा गया है। शुक्र ग्रह पर अन्य ग्रहों की तुलना में सबसे अधिक ज्वालामुखी है। कई ज्वालामुखी निष्क्रिय है। विनेरा-3 शुक्र ग्रह पर उतरने वाला पहला अंतरिक्ष यान था।

पृथ्वी- पृथ्वी सौरमंडल का तीसरा ग्रह है। इस ग्रह को Earth भी कहते हैं।पृथ्वी को धरती एवं अर्थ भी कहते हैं अर्थ का मतलब Soil होता है।यह हमारे सौरमंडल का एकमात्र ग्रह है जिस पर जीवन है। पृथ्वी का तीन भाग जल और एक भाग स्थल है। जल की अधिकता के कारण तथा अंतरिक्ष से पृथ्वी को देखने पर पृथ्वी नीली दिखाई पड़ती है। इसलिए इसे नीला ग्रह भी कहते हैं। इसकी सतह का 71% भाग जल तथा 29% भाग स्थल है।

पृथ्वी के दोनों ध्रुवों पर बर्फ की मोटी परत है। पृथ्वी के वायुमंडल में नाइट्रोजन और ऑक्सीजन की मात्रा सबसे अधिक है। पृथ्वी के वायुमंडल में ओजोन गैस की एक परत है जो सूर्य से आने वाली हानिकारक पराबैंगनी किरणों को अवशोषित कर धरती पर आने से रोकती है।पृथ्वी की आकृति अंडाकार है। पृथ्वी अपने अक्ष पर 23.5 डिग्री झुकी हुई है।

पृथ्वी का अपने अक्ष पर झुकने की वजह से ही इस पर विभिन्न प्रकार के मौसम का आगमन होता है। पृथ्वी अपने अक्ष पर घूमने में 24 घंटे का समय लगाता है। जिसकी वजह से हमें दिन और रात की प्राप्ति होती है। पृथ्वी सूर्य का एक पूर्ण चक्कर लगाने में 365 दिनों का समय लगाता है। पृथ्वी सूर्य से लगभग 15 करोड़ किलोमीटर दूर स्थित है। चंद्रमा पृथ्वी का एकमात्र प्राकृतिक उपग्रह है।

मंगल ग्रह- हमारे सौरमंडल का यह चौथा ग्रह है।मंगल ग्रह को Mars प्लेनेट भी कहते हैं। मंगल ग्रह का सतह लाल होने की वजह से इसे लाल ग्रह भी कहते हैं। मंगल ग्रह की सतह पर बहुतायत मात्रा में लोहा, मैग्नीशियम, एल्यूमीनियम पाया जाता है। लौह अयस्क की मात्रा अधिक पाए जाने के कारण इस ग्रह की सतह पर जंग लग जाते हैं। जिसके कारण वहां की धरती लाल दिखाई देती है। मंगल ग्रह का सबसे ऊंचा पर्वत ओलंपस है। यह सौरमंडल का सबसे ऊंचा पर्वत है।

पृथ्वी से लगभग समानता (भौगोलिक, समय, घूर्णन काल) होने की वजह से वैज्ञानिक यहाँ जीवन की संभावना ढूंढ रहे हैं। मंगल ग्रह के पास दो चंद्रमा अर्थात उपग्रह है। जिनके नाम है फोबोस और डिमोज। जो सबसे छोटा और दूर है। मंगल ग्रह का व्यास पृथ्वी की तुलना में आधा है। मंगल ग्रह का वायुमंडल अत्यंत कम है। मंगल ग्रह के वायुमंडल में 95% कार्बन डाइऑक्साइड गैस, 3% नाइट्रोजन, 1.6% आर्गन तथा ऑक्सीजन पाया जाता है। मंगल ग्रह का वायुमंडल धूल युक्त है। इसके दोनों ध्रुवों पर बर्फ जमी हुई है। मंगल ग्रह को धरती से नंगी आंखों से देखा जा सकता है।

बृहस्पति ग्रह- यह हमारे सौरमंडल का पांचवा ग्रह है। इस ग्रह को Jupiter भी कहते हैं। यह सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह है। यह ग्रह गैस का एक विशाल पिंड है। जुपिटर नाम रोमन सभ्यता ने अपने देवता के नाम पर रखा था। बृहस्पति ग्रह मुख्य रूप से हाइड्रोजन और हीलियम गैस से बना है। बृहस्पति ग्रह में लगातार गैस के बादलों का तूफान उठता रहता है। इस ग्रह के पास 79 चंद्रमा (उपग्रह) है। गैनिमिड सबसे बड़ा उपग्रह है। इसका व्यास बुध ग्रह से भी ज्यादा है।

बृहस्पति ग्रह गैसीय होने की वजह से इसका कोई धरातल नहीं है। इस ग्रह पर हवा की गति 100 मीटर प्रति सेकंड तथा उससे भी ज्यादा होती है। बृहस्पति ग्रह सूर्य का एक पूरा चक्कर 11.86 वर्ष में लगाता है। बृहस्पति ग्रह का घूर्णन सौर मंडल के सभी ग्रहों की अपेक्षा सबसे अधिक है। यह अपने अक्ष पर एक घूर्णन लगभग 10 घंटे में पूरा करता है। बृहस्पति ग्रह के 4 सबसे बड़ा उपग्रह है। आयो, यूरोपा, गैनिमिड तथा कैलिस्टो है। जिसे गैलीलियन चंद्रमा के नाम से जाना जाता है। इसे सन 1610 में महान खगोल विद् गैलीलियो गैलीली द्वारा खोजा गया था।

शनि ग्रह- शनि ग्रह हमारे सौरमंडल का छठवां ग्रह है। इस ग्रह को Saturn भी कहते हैं। सौरमंडल में बृहस्पति के बाद यह दूसरा बड़ा ग्रह है। शनि ग्रह का व्यास पृथ्वी की तुलना में 9 गुना बड़ा है। शनि ग्रह भी गैस का एक विशाल पिंड है। शनि ग्रह के 82 उपग्रह है। शनि ग्रह का सबसे बड़ा उपग्रह टाइटन है। शनि ग्रह के पास सबसे ज्यादा उपग्रह है। गैस से बने होने के कारण इसका कोई ठोस सतह नहीं है। दोनों ध्रुवों पर चपटा है। शनि का आंतरिक भाग लोहा, निकेल, चट्टानों के कोर से बना है।

इस ग्रह पर हवा की गति 1800 किलोमीटर प्रति घंटा है। शनि ग्रह के पास एक विशेष छल्ला है जो मलवे, धूल तथा बर्फ के कणों से बना है। इन छल्लों के कारण शनि ग्रह सुंदर दिखाई पड़ता है। शनि ग्रह पर तापमान लगभग -185 डिग्री सेल्सियस है। इस ग्रह का वायुमंडल 96.3% हाइड्रोजन तथा 3.25% हीलियम गैस से बना है। शनि ग्रह सौरमंडल का सबसे सुंदर ग्रह कहा जाता है। इस ग्रह को पीला ग्रह भी कहते हैं।

अरुण ग्रह- यह सौरमंडल का सातवां ग्रह है।अरुण ग्रह को Uranus भी कहते हैं। व्यास के आधार पर सौरमंडल का यह तीसरा बड़ा ग्रह है। आकार में पृथ्वी से 63 गुना अधिक बड़ा है तथा द्रव्यमान में 14.5 गुना अधिक भारी है। अरुण ग्रह गैस का एक विशाल पिंड है। सौरमंडल में उपस्थित सभी ग्रहों में अरुण ग्रह सबसे ठंडा ग्रह है। इस ग्रह पर बर्फ अधिक है। पानी के बर्फ के अतिरिक्त अमोनिया और मिथेन गैस की जमी हुई बर्फ है। इसे बर्फीले गैस दानव भी कहते हैं।

अरुण ग्रह का न्यूनतम तापमान -224 डिग्री सेंटीग्रेड है। यह सूर्य से लगभग 3 अरब किलोमीटर दूर है। सूर्य से बहुत अधिक दूरी पर स्थित होने के कारण सूर्य का प्रकाश और ऊर्जा अरुण ग्रह तक नहीं पहुंच पाता है। इसलिए अरुण ग्रह सौरमंडल का सबसे ठंडा ग्रह है। सूर्य से काफी दूरी पर स्थित होने के कारण अरुण ग्रह के द्वारा सूर्य का एक चक्कर पूरा करने में लगभग पृथ्वी की तुलना में 84 चक्कर के बराबर है। अरुण ग्रह के पास 27 चांद (उपग्रह) है। इस ग्रह के पास भी अपना छल्ला है।

वरुण ग्रह- सौरमंडल का यह आठवां ग्रह है। वरुण ग्रह को Neptune भी कहते हैं। व्यास के आधार पर यह सौरमंडल का चौथा बड़ा ग्रह तथा द्रव्यमान के आधार पर तीसरा बड़ा ग्रह है। वरुण ग्रह को सूर्य की एक पूरी परिक्रमा करने में 164.79 वर्ष लगते हैं। वरुण ग्रह भी गैस का एक विशाल पिंड है। गैसीय ग्रह होने के कारण यहां पर धरातल नहीं है। नेपच्यून नाम रोमन धर्म में समुद्र के देवता के नाम पर रखा गया है।

वरुण ग्रह सूर्य से 4.4 अरब किलोमीटर दूर स्थित है। वरुण ग्रह के पास 14 चांद (उपग्रह) है। वरुण ग्रह का औसत तापमान -214 डिग्री सेंटीग्रेड है। वरुण ग्रह पर बहुत अधिक बर्फ जमा होने के कारण यह हमें नीला दिखाई पड़ता है।

ये भी पढ़ें-

हमें फेसबुक पर फॉलो करें।

FAQ – Saurmandal Ke Grah

  1. हमारे सौर मंडल में कुल कितने ग्रह हैं?

    हमारे सौर मंडल में कुल 8 ग्रह हैं।

  2. 8 ग्रहों के नाम क्या है?

    हमारे सौरमंडल में कुल 8 ग्रह है।
    बुद्ध (Mercury)
    शुक्र (Venus)
    पृथ्वी (Earth)
    मंगल (Mars)
    बृहस्पति (Jupiter)
    शनि (Saturn)
    अरुण (Uranus)
    वरुण (Neptune)

  3. सौरमंडल का सबसे बड़ा ग्रह का नाम क्या हैं?

    बृहस्पति (Jupiter)

  4. सौरमंडल का सबसे छोटा ग्रह का नाम क्या है?

    बुध (Mercury)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here